जीना इसी का नाम है

जीना इसी का नाम है

कोई कोशिश जलते चिरागों-सी की तो जाए,
ज्योत-सा जलकर के ज़िन्दगी जी तो जाए,
कोई हिसाब है, किसी को कुछ देने का तो कहो,
चलो फिर आज ये किताब भी भरी तो जाए......

- शितांशु रजत


Share Tweet Send
0 Comments
Loading...